69000 शिक्षक भर्ती : नहीं हुआ जिला आवंटन, 6000 अभ्यर्थी कर रहे हैं इंतजार - Primary Ka Master News - PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | प्राइमरी का मास्टर | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER providing all of the primary ka master news, updatemart, basic shiksha news, updatemarts, updatemarts.in, basic shiksha parishad, basic shiksha, up basic news, प्राइमरी का मास्टर.org.in, primarykamaster news, basic shiksha parishad news, primary ka master up, primary master, up basic shiksha parishad, news in uptet, up basic shiksha, up ka master, primary ka master current news today

मंगलवार, 11 जनवरी 2022

69000 शिक्षक भर्ती : नहीं हुआ जिला आवंटन, 6000 अभ्यर्थी कर रहे हैं इंतजार - Primary Ka Master News

69000 शिक्षक भर्ती :  नहीं हुआ जिला आवंटन,  6000 अभ्यर्थी कर रहे हैं इंतजार



● ओबीसी वर्ग के 6000 अभ्यर्थी कर रहे हैं इंतजार
● चयन सूची 5 जनवरी को जारी कर दी गई थी



69 हजार शिक्षक भर्ती में ओबीसी वर्ग के 6000 अभ्यर्थियों की मेरिट सूची तो जारी कर दी गई लेकिन पांच दिन बीत जाने के बाद भी जिला आवंटन जारी नहीं हो पाया है। एनआईसी जिला आवंटन की सूची को अंतिम रूप नहीं दे पाया है।



चयन सूची पांच जनवरी को जारी हुई थी। जिला आवंटन के बाद काउंसिलिंग होगी और इसके बाद ही नियुक्ति पत्र जारी होंगे। दरअसल, एनआईसी ऐसा फार्मूला तैयार कर रहा है ताकि किसी भी अभ्यर्थी के साथ अन्याय न होने पाए। शिक्षक भर्ती के तहत नियुक्त कई ऐसे शिक्षक हैं, जिन्हें मेरिट के चलते अपनी पसंद के जिले में नियुक्ति नहीं मिल पाई। अब देखा जा रहा है कि 6000 भर्ती में नियुक्ति होने वाले अभ्यर्थियों को मेरिट के मुताबिक ही जिला आवंटन हो और इससे पहले दो चरणों में नियुक्त हुए शिक्षकों के साथ अन्याय न हो। कई शिक्षक भर्तियों में ऐसा हो चुका है कि कई चरणों में भर्ती होने के कारण ज्यादा मेरिट वाले शिक्षकों को उनके मनमाफिक जिले नहीं मिलते।


मसलन, 68500 शिक्षक भर्ती के पहले चरण 45 हजार शिक्षक चयनित हुए तो उन्हें प्रदेश में एक समान नियुक्त करने के लिए सभी जिलों की सीटों का कटऑफ 45 हजार के मुताबिक निकला लेकिन बाद में जो शिक्षक चयनित होकर आए उन्हें अपने मन के जिलों में नियुक्ति मिल गई।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें