फतेहपुर : भुगतान आदेश के बावजूद नहीं पहुंचे एरियर के बिल - PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | प्राइमरी का मास्टर | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER providing all of the primary ka master news, updatemart, basic shiksha news, updatemarts, updatemarts.in, basic shiksha parishad, basic shiksha, up basic news, प्राइमरी का मास्टर.org.in, primarykamaster news, basic shiksha parishad news, primary ka master up, primary master, up basic shiksha parishad, news in uptet, up basic shiksha, up ka master, primary ka master current news today

शुक्रवार, 17 दिसंबर 2021

फतेहपुर : भुगतान आदेश के बावजूद नहीं पहुंचे एरियर के बिल

फतेहपुर : भुगतान आदेश के बावजूद नहीं पहुंचे एरियर के बिल

फतेहपुर : वर्तमान बीएसए के चार्ज लेने के बाद से ही विभिन्न शिक्षक भर्तियों के अन्तर्गत सेवा में आए बेसिक शिक्षकों के वेतन बकाए को लेकर एक के बाद एक भुगतान आदेश हो रहे हैं लेकिन कई माह बीतने के बाद भी बिल न बनने से धनराशि का भुगतान नहीं हो सका है। वेतन भुगतान आदेश का धरातल पर अमल न होता देख नाराज बीएसए ने सभी बीईओ को एक सप्ताह में वेतन बकाए का बिल लेखा में जमा करने का फरमान सुनाया है।



बीएसए संजय कुमार कुशवाहा ने सभी खंड शिक्षाधिकारियों से कहा है कि संघ ने उन्हें अवगत कराया है कि 15000, 16448, 12460, 68500 तथा 69000 सहायक शिक्षक भर्तियों से सम्बन्धित शिक्षकों के वेतन बकाए के भुगतान सम्बन्धित आदेश जारी होने के बावजूद ससमय एरियर बिल वित्त एवं लेखाधिकारी कार्यालय को नहीं दिए जा रहे हैं। इस स्थिति पर असंतोष जताते हुए उन्होंने कहा कि अवशेष वेतन भुगतान आदेश जारी होने के सात दिवस के भीतर बिल बनाकर लेखाधिकारी कार्यालय को मुहैया करा दिया जाए।

कुछ का भुगतान कुछ को इंतजार

सूत्र बताते हैं कि चढ़ावा मिलने के बाद अनेक शिक्षकों के अवशेष वेतन भुगतान बिल बनाकर लेखा कार्यालय भेजे गए हैं। सूत्र यह भी बताते हैं कि एक ही अवशेष वेतन भुगतान आदेश में शामिल कुछ शिक्षकों को भुगतान कर दिया गया तो कुछ को अभी बिल बनने का ही इंतजार है।

अब भी कई को आदेश का इंतजार

बीएसए संजय कुशवाहा ने वैसे तो प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए सत्यापन में तेजी लाते हुए नियमित अंतराल पर अवशेष वेतन भुगतान जारी कर किए हैं लेकिन अब भी बड़ी संख्या में शिक्षकों को कई साल बाद भी अपने वेतन बकाए का इंतजार है।




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें