69000 शिक्षक भर्ती : अभ्यर्थियों का बेसिक शिक्षा मंत्री के आवास पर प्रदर्शन, पुलिस से गुत्थमगुत्था, धक्कामुक्की - PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | प्राइमरी का मास्टर | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER providing all of the primary ka master news, updatemart, basic shiksha news, updatemarts, updatemarts.in, basic shiksha parishad, basic shiksha, up basic news, प्राइमरी का मास्टर.org.in, primarykamaster news, basic shiksha parishad news, primary ka master up, primary master, up basic shiksha parishad, news in uptet, up basic shiksha, up ka master, primary ka master current news today

रविवार, 19 दिसंबर 2021

69000 शिक्षक भर्ती : अभ्यर्थियों का बेसिक शिक्षा मंत्री के आवास पर प्रदर्शन, पुलिस से गुत्थमगुत्था, धक्कामुक्की

69000 शिक्षक भर्ती : अभ्यर्थियों का बेसिक शिक्षा मंत्री के आवास पर प्रदर्शन, पुलिस से गुत्थमगुत्था, धक्कामुक्की

69 हजार शिक्षक भर्ती में हुई अनियमितता को लेकर अभ्यर्थियों ने शनिवार को बेसिक शिक्षा मंत्री के आवास के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान उनकी पुलिस से धक्कामुक्की हुई।




69 हजार शिक्षक भर्ती में नियमानुसार आरक्षण लागू करने की मांग को लेकर शनिवार को सैकड़ों शिक्षक भर्ती अभ्यर्थियों ने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी के आवास पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन को लेकर उनकी पुलिस से काफी धक्कामुक्की व गुत्थमगुत्था भी हुई। अभ्यर्थियों को उठाने पहुंचे पुलिस वालों को ही अभ्यर्थियों ने जकड़ लिया। अंत में सभी अभ्यर्थी हिरासत में लेकर पुलिस लाइन भेजे गए।

आरक्षण पीड़ित अभ्यर्थियों का कहना था कि इस भर्ती में ओबीसी वर्ग को 27% की जगह मात्र 3.86% आरक्षण दिया गया है तथा एससी वर्ग को इस भर्ती में 21% की जगह 16.6% आरक्षण दिया गया है।
ओबीसी वर्ग को इस भर्ती में उनके कोटे की 18598 सीट में से मात्र 2637 सीट ही दी गई है। जो पूरी तरह से गलत है। उनका यह भी कहना था कि इस भर्ती में बेसिक शिक्षा नियमावली 1981 तथा आरक्षण नियमावली 1994 का उल्लंघन हुआ है।

अभ्यर्थियों का कहना था कि 29 अप्रैल 2021 को इस भर्ती में राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने भी घोटाला मानते हुए अपनी एक रिपोर्ट जारी की है। इसलिए उस रिपोर्ट को लागू किया जाए तथा राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के सभी शिकायतकर्ताओं को न्याय दिया जाए। अभ्यर्थियों में इस बात को लेकर भी नाराजगी थी कि मंत्री ने सदन में कहा कि उन्हें आयोग की रिपोर्ट नहीं मिली जबकि यह 8 महीने पहले ही आ चुकी है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें