नई भर्ती में डीएलएड प्रशिक्षितों ने मांगे और पद, भर्ती के लिए 17 हजार पद को बताया अपर्याप्त - PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | प्राइमरी का मास्टर | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER providing all of the primary ka master news, updatemart, basic shiksha news, updatemarts, updatemarts.in, basic shiksha parishad, basic shiksha, up basic news, प्राइमरी का मास्टर.org.in, primarykamaster news, basic shiksha parishad news, primary ka master up, primary master, up basic shiksha parishad, news in uptet, up basic shiksha, up ka master, primary ka master current news today

रविवार, 26 दिसंबर 2021

नई भर्ती में डीएलएड प्रशिक्षितों ने मांगे और पद, भर्ती के लिए 17 हजार पद को बताया अपर्याप्त

नई भर्ती में डीएलएड प्रशिक्षितों ने मांगे और पद, भर्ती के लिए 17 हजार पद को बताया अपर्याप्त


प्रयागराज : बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षक बनने की प्रतीक्षा कर रहे प्रशिक्षितों के लिए राहत भरी खबर तो आई, लेकिन इसमें पर्याप्त पद नहीं हैं। कम पद होने से डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजूकेशन (डीएलएड) प्रशिक्षित निराश और नाराज हैं। 



प्रशिक्षितों ने बेसिक शिक्षा में रिक्त पदों का विवरण देकर पद बढ़ाने की मांग उठाई। कहा, आंदोलन करेंगे। प्रशिक्षित पंकज मिश्र का कहना है कि डीएलएड प्रशिक्षितों की संख्या पांच लाख से ज्यादा है। बीएड व शिक्षामित्रों को जोड़ दे तो संख्या दो गुना बढ़ जाएगी। ऐसी स्थिति में नए भर्ती विज्ञापन में सिर्फ 17000 सहायक अध्यापकों की भर्ती का आदेश पर्याप्त नहीं है।



बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षक भर्ती में पद बढ़ाए जाने की मांग


प्रदेश सरकार की ओर बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों के 17 हजार नए पदों पर भर्ती करने की घोषणा की है। अभ्यर्थियों पदों की संख्या बढ़ाए जाने की मांग की है। पंकज मिश्र का कहन है कि डीएलएड के करीब 5 लाख प्रशिक्षित हैं और बीएड, शिक्षामित्रों आदि को शामिल कर लिया जाए तो यह आंकड़ा 15.17 लाख के करीब होगा। सरकार ने 69000 प्रकरण के दौरान सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर 51112 पद रिक्त होने की बात स्वीकार की थी।



पिछले तीन वर्षों में हर वर्ष तकरीबन 10 हजार शिक्षक सेवानिवृत्त हुए हैं। ऐसे में तकरीबन 90 हजार से ज्यादा शिक्षकों के पद रिक्त हैं। वहीं, रोजगार के मुद्दे पर पत्थर गिरजाघर चौराहे के पास 116 दिनों से आंदोलन कर रहे प्रतियोगी छात्रों ने मांग की है कि सरकार प्राथमिक विद्यालयों में सभी रिक्त पदों पर भर्ती का विज्ञापन जारी कर। इस मौके पर मदन, शिबलू, सुनील यादव, करन सिंह परिहार, गीतांजलि यादव, मीनाक्षी मिश्रा, राहुल यादव, अश्विनी कुमार आदि मौजूद रहे।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें