बीईओ को चप्पल से पीटने का मामला : अब पांच खंड शिक्षा अधिकारियों की कमेटी करेगी मामले की जांच - primary ka master - Sarkari Master | Primary Ka Master News | Basic Shiksha News, Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

Primary Ka Master Daily News Provides all of the news about primary ka master, shiskhamitra, uptet news, basic shiksha news and etc.

Main Menu

मंगलवार, 16 नवंबर 2021

बीईओ को चप्पल से पीटने का मामला : अब पांच खंड शिक्षा अधिकारियों की कमेटी करेगी मामले की जांच - primary ka master

बीईओ को चप्पल से पीटने का मामला  : अब पांच खंड शिक्षा अधिकारियों की कमेटी करेगी मामले की जांच 


प्रयागराज : खंड शिक्षा अधिकारी (बीईओ)सैदाबाद की चप्पल से पिटाई के मामले की जांच अब सदस्यीय कमेटी करेगी।

    (प्रतीकात्मक चित्र)


 बीएसए ने संतोष कुमार श्रीवास्तव खंड शिक्षा अधिकारी करछना, नरेंद्र सिंह खंड शिक्षा अधिकारी शंकरगढ़, शिव औतार खंड शिक्षा अधिकारी नगरक्षेत्र ममता सरकार खंड शिक्षा अधिकारी हंडिया और किरन यादव खंड शिक्षा अधिकारी जांच टीम में शामिल किया गया है। रविवार को स्कूल के शिक्षक और शिक्षिकाओं का बयान लिया गया है। इसके बाद कुछ और तथ्य सामने आए। इस पर बीएसए ने पांच सदस्यीय कमेटी गठित कर एक सप्ताह में आख्या रिपोर्ट मांगी है। 



सैदाबाद विकास खंड के संविलयन विद्यालय मलेथुआ में खंड शिक्षा अधिकारी बलिराम निरीक्षण करने पहुंचे थे। इस दौरान उनकी शिक्षिका कविता कुमारी से कहासुनी हो गई। विवाद बढ़ने पर शिक्षिका ने खंड शिक्षा अधिकारी पर चप्पल से हमला कर दिया था।  शिक्षिका ने भी खंड शिक्षा अधिकारी पर तमाम आरोप लगाए थे। इस मामले में आरोपित शिक्षिका को बीएसए ने निलंबित कर दिया था। साथ ही मामले की जांच बीईओ हंडिया ममता सरकार को सौंपी थी।


बाद में बीएसए ने इस मामले में तीन सदस्यीय कमेटी जांच के लिए गठित की थी। लेकिन रविवार को विद्यालय के अन्य शिक्षक और शिक्षिकाओं का बयान लेने पर कुछ और तथ्य सामने आए। इस पर बीएसए ने पांच सदस्यीय कमेटी गठित की है।


उन्होंने मामले में विद्यालय में वर्ष 2020 अद्यतन अध्यापक उपस्थिति, लॉकबुक के आधार अवकाश, अवकाश स्वीकृति आदेश, सीसीएल  अवकाश, चिकित्सा अवकाश के पश्चात फिटनेस प्रमाण पत्र के आधार पर कार्यभार ग्रहण तथा विद्यालय की शैक्षिक गुणवत्ता समेत अन्य बिंदुओं पर जांच कर संयुक्त आख्या रिपोर्ट मांगी है। साथ ही इस मामले में समस्त स्टॉफ, विद्यार्थी, विद्यालय प्रबंध समिति, ग्राम प्रधान और अभिभावकों, रसोइयों आदि से भी प्रकरण में जानकारी करना है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें