Main Menu

PrimaryKaMaster: अप्रैल से शिक्षासत्र प्रारंभ करने में जुटा शिक्षा विभाग

अप्रैल से शिक्षासत्र प्रारंभ करने में जुटा शिक्षा विभाग


कोरोना संक्रमण काल के चलते दो वर्षों से शिक्षण - संस्थाओं में पठन-पाठन पूरी तरह ठप था। मगर अब इसे पटरी पर लाने के लिए एक अप्रैल से प्रारंभ होने वाले शिक्षासत्र में नियमित करने का प्रयास किया जा रहा है। 



बेसिक शिक्षा विभाग ने कक्षा एक से आठ तक के स्कलों में 28 मार्च तक परीक्षा कराने को कहा है और हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों में 12 अप्रैल तक परीक्षाएं संपादित कराकर 13 अप्रैल से नया शिक्षासत्र प्रारंभ करने की तैयारी है। 


शिक्षा सत्र 2019-20 और 2020-21 में कोरोना संक्रमण काल के चलते स्कूलों की परीक्षाएं नहीं हुई। यूपी बोर्ड, सीबीएसई, आईसीएसई बोर्ड ने अपने स्कूलों के बच्चों को बगैर परीक्षा दिए ही प्रमोट कर दिया। दो वर्षों में ऑफलाइन परीक्षा नहीं होने से सबसे अधिक नुकसान बच्चों का हुआ। वह पास तो हो गए, मगर पढ़ाई के नाम पर सिफर रहे। ऑनलाइन शिक्षा का दावा करने वाले कॉलेजों में अधिकांश ऐसे बच्चे थे। जो गांव में रहते थे और उनके नेट की समस्या के चलते वह ऑनलाइन पढ़ाई नहीं कर पा रहे थे। मगर इस वर्ष कोरोना संक्रमण की दर न के बराबर है।


ऐसे में सभी स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई प्रारंभ होने के साथ ही परीक्षाएं भी ऑफलाइन हो रही है। अब एक अप्रैल से नया शिक्षा सत्र प्रारंभ हो रहा है। शिक्षा विभाग नए सत्र से पढ़ाई को नियमित करने के लिए जुटा हुआ है। यूपी बोर्ड की बोर्ड की परीक्षाएं 24 मार्च से प्रारंभ होकर 12 अप्रैल तक चलेंगी। शासन ने उन कॉलेजों को एक अप्रैल से नया शिक्षासत्र प्रारंभ करने को कहा है, जो बोर्ड परीक्षा में केंद्र नहीं बने हुए हैं। जो कालेज परीक्षा केंद्र बने हैं, उनमें 13 अप्रैल से पठन-पाठन प्रारंभ होगा।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ