अनिल भूषण को फिर परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव का जिम्मा, रजिस्ट्रार पद में भी बदलाव, नए PNP सचिव के सामने एक माह में यूपीटीईटी कराने की बड़ी चुनौती - प्राइमरी का मास्टर - PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | basic shiksha news | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

PrimaryKaMaster : Primary Ka Master | प्राइमरी का मास्टर | Updatemarts - PRIMARY KA MASTER providing all of the primary ka master news, updatemart, basic shiksha news, updatemarts, updatemarts.in, basic shiksha parishad, basic shiksha, up basic news, प्राइमरी का मास्टर.org.in, primarykamaster news, basic shiksha parishad news, primary ka master up, primary master, up basic shiksha parishad, news in uptet, up basic shiksha, up ka master, primary ka master current news today

गुरुवार, 2 दिसंबर 2021

अनिल भूषण को फिर परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव का जिम्मा, रजिस्ट्रार पद में भी बदलाव, नए PNP सचिव के सामने एक माह में यूपीटीईटी कराने की बड़ी चुनौती - प्राइमरी का मास्टर

नए PNP सचिव के सामने एक माह में यूपीटीईटी कराने की बड़ी चुनौती


प्रयागराज  : परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी के सामने एक माह में शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) का दोबारा आयोजन कराना सबसे बड़ी चुनौती होगी। हालांकि शासन ने उनके अनुभव को ध्यान में रखते हुए उन्हें यह जिम्मेदारी दोबारा सौंपी है।

 वह बृहस्पतिवार को ज्वाइन कर सकते हैं। इससे पहले भी पूर्व सचिव सुत्ता सिंह के निलंबन के बाद उन्हें इस पद की जिम्मेदारी अचानक सौंप दी गई थी। उन्हें टीईटी के आयोजन का अनुभव है। पेपर छपवाने, एजेंसी के चयन, मॉडरेशन आदि की जिम्मेदारी अब उन्हीं पर होगी। सरकार पहले ही घोषणा कर दी है कि एक माह में टीईटी का आयोजन दोबारा करा दिया जाएगा।



अनिल भूषण को फिर  परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव का जिम्मा, रजिस्ट्रार पद में भी बदलाव, देखें आदेश


 लखनऊ: परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव पद पर फिर अनिल भूषण चतुर्वेदी की तैनाती की गई है। वे इस समय राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) लखनऊ में संयुक्त शिक्षा निदेशक के पद पर कार्यरत हैं। पांच माह पहले चतुर्वेदी के तबादले के बाद ही संजय उपाध्याय को परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव बनाया गया था। 



ये भी संयोग है कि 68 हजार, 500 शिक्षक भर्ती में कापी बदलने और मूल्यांकन में गड़बड़ी होने पर तत्कालीन सचिव सुत्ता सिंह को निलंबित किए जाने के बाद भी अनिल भूषण को ही विपरीत परिस्थितियों में जिम्मेदारी सौंपी गई थी। अब फिर पेपर लीक होने पर उन्हें दोबारा जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं, परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में रजिस्ट्रार विभागीय परीक्षाएं मनोज कुमार अहिरवार बनाए गए हैं। वे इस समय जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) सीतापुर में उप प्राचार्य हैं। दोनों पदों पर तैनाती के आदेश जारी कर दिए गए हैं।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें