DBT के जरिये धन प्रेषण का शुभारंभ: पौने दो करोड़ से ज्यादा खातों में आज 1100 रुपए भेजेंगे सीएम योगी - primary ka master - प्राइमरी का मास्टर | Primary Ka Master News | Basic Shiksha News, Updatemarts - PRIMARY KA MASTER

Breaking

Primary Ka Master Daily News Provides all of the news about primary ka master, shiskhamitra, uptet news, basic shiksha news and etc.

Main Menu

शनिवार, 6 नवंबर 2021

DBT के जरिये धन प्रेषण का शुभारंभ: पौने दो करोड़ से ज्यादा खातों में आज 1100 रुपए भेजेंगे सीएम योगी - primary ka master

DBT के जरिये धन प्रेषण का शुभारंभ: पौने दो करोड़ से ज्यादा खातों में आज 1100 रुपए भेजेंगे सीएम योगी



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को प्रदेश के करीब पौने दो करोड़ लोगों के खाते में 11-11 सौ रुपये भेजने का शुभारंभ करेंगे। यह रुपये ऐसे लोगों को मिलेंगे जिनके बच्चे यूपी सरकार के परिषदीय स्कूलों में पढ़ते हैं। लखनऊ में आयोजित समारोह में सीएम योगी ऑनलाइन रुपये ट्रांसफर करेंगे।



डीबीटी के माध्यम से परिषदीय स्कूलों के कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों को स्कूल यूनिफॉर्म के लिए 1100 रुपये दिए जाएंगे। इनमें दो यूनिफॉर्म के लिए 300 रुपये प्रति यूनिफॉर्म 600 रुपये, स्वेटर के लिए 200 रुपये, स्कूल बैग के लिए 175 और जूते के लिए 125 रुपये दिए जाएंगे। बच्चों के अभिभावकों के बैंक एकाउंट की फीडिंग का काम लगभग पूरा हो चुका है। शनिवार को उद्घाटन के बाद खातों में धनराशि ट्रांसफर शुरू हो जाएगा।


बेसिक शिक्षा विभाग ने निशुल्क यूनिफार्म, जूते-मोजे, स्वेटर व स्कूल बैग की धनराशि अभिभावकों के खाते में भेजने के लिए प्रेरणा डीबीटी ऐप सिंतबर में लांच किया था। सभी अभिभावकों का आधार कार्ड के साथ डाटा इसमें शामिल किया गया है।


प्रदेश में प्राइमरी व जूनियर स्कूल के 1 करोड़ 80 लाख विद्यार्थियों को धनराशि दी जानी है। महानिदेशक स्कूल शिक्षा अनामिका सिंह ने पिछले दिनों एप जारी होने के बाद आदेश जारी करते हुए कहा था कि सभी अभिभावकों से सहमति पत्र लेते समय उन्हें सूचित किया जाए कि यदि उनके बैंक खाते निष्क्रिय हैं तो उन्हें यथाशीघ्र सक्रिय करा लिया जाए और उसकी आधार सीडिंग अनिवार्य होगी।


सभी अभिभावक अपने खाते आधार नंबर से जुड़वा कर सक्रिय करवा लें। प्रधानाध्यापकों को सारे विद्यार्थियों व अभिभावकों के ब्यौरे वैरिफाई करने का जिम्मा भी दिया गया था। इसके लिए चित्र समेत यूजर मैनुअल भी जारी किया गया था। इसके बाद खण्ड शिक्षा अधिकारियों को डाटा का परीक्षण का काम दिया गया। डाटा को प्रेरणा पेार्टल से पीएफएमएस प्रारूप पर डाउनलोड कर सत्यापन का काम हुआ।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें